No icon

myanmar

खुल गए म्यांमार के रास्ते, अब थाइलैंड दूर नहीं, यहां से हुआ शुभारंभ

नई दिल्ली। भारत को म्यांमार और थाइलैंड से जोड़ने की दिशा में केंद्र की मोदी सरकार ने एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। इस प्रोजेक्ट के तहत मणिपुर के मोरे में एक अत्याधुनिक एकीकृत जांच चौकी बनकर तैयार हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इस जांच चौकी का उद्घाटन करेंगे। इस जांच चौकी के बनने के बाद मणिपुर से म्यांमार जाना आसान हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट के अगले चरण में भारत को थाईलैंड से जोड़ने वाले हिस्से पर काम किया जाएगा।  प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज विभिन्‍न परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए पट्टिका का अनावरण करेंगे। इन परियोजनाओं में मोरे में एकीकृत चेक पोस्‍ट (आईसीपी), दोलाईथाबी बैराज परियोजना, साओमबंग में एफसीआई खाद्य भंडारण गोदाम, थंगलसुरूनगंद में ईको टूरिज्‍म कॉम्‍पलेक्‍स तथा विभिन्‍न जल आपूर्ति योजना शामिल हैं। प्रधानमंत्री मोदी 400 किलोवाट की डबल सर्किट सिल्‍चर – इम्‍फाल लाइन देश को समर्पित करेंगे।

मोरे चैकपोस्ट खोलेगी तरक्की के नए रास्ते
मोदी धननमंजूरी विश्‍वविद्यालय, इंफाल की संरचना विकास, खेल सुविधाएं जैसी परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे। प्रधानमंत्री इम्‍फाल पूर्व जिले में हपताकंजीबंग में लोगों को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री असम में सिलचर के रामनगर में सार्वजनिक सभा को संबोधित करेंगे। मोरे चैकपोस्ट भारत के लिए तरक्की के नए द्वार खोलेगा। इस परियोजना की मुख्य विशेषताएं यह हैं कि यह चैकपोस्ट दक्षिण-पूर्व एशिया के लिए भारत का गेटवे है। इसके साथ ही यह चैकपोस्ट भारत- म्यांमार सीमा पर राष्ट्रीय राजमार्ग -39 पर स्थित है। यहां 38 एकड़ क्षेत्रफल में यात्रियों और कार्गो के लिए अलग-अलग सुविधाएं दी जाएंगी। इस परियोजना की लागत 90 करोड़ रुपए है।

Comment As:

Comment (0)