बुध ग्रह की शांति के लिए करें बुधवार को गणपति की पूजा इन मंत्रों के साथ

Breaking news

बुध ग्रह की शांति के लिए करें बुधवार को गणपति की पूजा इन मंत्रों के साथ

Author Author - admin 2313

बुधवार गणपति पूजन का दिन माना जाता है साथ ही इस दिन बुध ग्रह की शांति के लिए भी पूजा की जाती है। बुध पूजा में इन मंत्रों और स्‍त्रोतों का है महत्‍व।

 

बुधवार को ऐसे करें पूजा का आरंभ

श्री गणेश की पूजा का विशेष दिन है बुधवार, इस दिन स्‍नानादि करके शुद्ध होने के बाद श्रीगणेश को सिंदूर, चंदन, यज्ञोपवीत, दूर्वा, लड्डू या गुड़ से बनी मिठाई का भोग लगाते हुए, धूप और दीप से आरती करते हुए उनका पूजन करें। उसके पश्‍चात इस मंत्र का जप करें। प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम्, तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयो: शिवाय। प्रातर्भजाम्यभयदं खलु भक्तशोकदावानलं गणविभुं वरकुञ्जरास्यम्, अज्ञानकाननविनाशनहव्यवाहमुत्साहवर्धनमहं सुतमीश्वरस्य। इसका अर्थ है कि इस मंत्र का अर्थ यह है कि मैं ऐसे देवता का पूजन करता हूं, जिनकी पूजा स्वयं ब्रह्मदेव करते हैं। ऐसे देवता, जो मनोरथ सिद्धि करने वाले, भय दूर करने वाले, शोक का नाश करने वाले, गुणों के नायक, गजमुख, और अज्ञान का नाश करने वाले हैं। मैं शिव पुत्र श्री गणेश की सुख-सफलता की कामना से भजन, पूजन और स्मरण करता हूं। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह अशुभ स्थिति में हो तो बुधवार को बुध ग्रह की शांति के लिए भी पूजा की जाती है।

© 2018. ALL RIGHTS RESERVED Just2minute Media pvt ltd