ब्रिटेन में बना अजीबोगरीब मंत्रालय, यह होगा इसका कामकाज

Breaking news

ब्रिटेन में बना अजीबोगरीब मंत्रालय, यह होगा इसका कामकाज

Author J2M International Desk    New Delhi, Delhi, India 135

लंदन। दुनिया में पहली बार किसी देश में अकेलेपन की समस्या से निपटने के लिए लोनलीनेस मिनिस्ट्री बनाई गई है। 42 साल की ट्रेसी क्राउच को इस मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया है। एक सर्वे के अनुसार ब्रिटेन की 14% आबादी यानी 90 लाख लोग अकेलेपन के शिकार है। इस अनोखे मंत्रालय का प्रभार मिलने के बाद से ट्रेसी का ईमेल अकाउंट सवालों से भरा रहता है। उनका फोन लगातार बजता रहता है। अप्वॉइंटमेंट लेने वालों की भी लंबी लिस्ट है।

अमेरिका की एक रिसर्च के मुताबिक, अकेलेपन से सेहत को उतना ही नुकसान होता है, जितना 15 सिगरेट रोज पीने से। अमेरिकी विशेषज्ञों के मुताबिक, सबसे आम बीमारी हृदय रोग और डायबिटीज नहीं, बल्कि अकेलापन की है। हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी सिगना के सर्वे में पाया गया कि अकेलापन अमेरिका में महामारी के स्तर पर पहुंच गया है। 46% लोग बताते हैं कि वे हमेशा या कभी-कभी अकेलापन महसूस करते हैं। 18 से 22 साल के युवाओं में यह समस्या सबसे ज्यादा है। यही दिक्कत जापान में भी है। वहां अकेलेपन से बुजुर्गों की मौत हो रही है। इसे कोडोकुशी कहते हैं।
 
ब्रिटेन की मंत्री ट्रेसी के मुताबिक, यूके में 16 से 24 साल के युवा सबसे ज्यादा अकेलापन शिकार हैं। अकेलेपन का बड़ा कारण सोशल मीडिया है। डिजिटल माध्यमों से जुड़ी पीढ़ी में अकेलापन बढ़ता जा रहा है। युवाओं को लगता है उनके पास इंस्टाग्राम और फेसबुक पर 200 दोस्त हैं, लेकिन असल में वे दोस्त नहीं होते। हालांकि, डिजिटल प्लेटफॉर्म ही इसका सॉल्यूशन भी है। बुजुर्गों को कम्प्यूटर सिखाकर उन्हें फेसबुक और इंस्टाग्राम के जरिए देश के दूसरे कोनों में बैठे युवाओं से जोड़ा जा सकता है।

इसके अलावा ट्रेसी का कहना है कि अकेलेपन का दूसरा कारण देर से शादी और सिंगल रहना भी है। यूरोपीय यूनियन में सबसे ज्यादा सिंगल रहते हैं। कम आय वाले लोगों को अकेलेपन से बचाने के लिए अलग-अलग जगहों पर सेंटर खोले गए हैं। रेडियोक्लब और सीनियर सिटिजन का फोन पर संपर्क काफी कारगर साबित हो रहा है। लोनलीनेस मंत्रालय इसके लिए 182 करोड़ रुपये खर्च कर चुका है।

आपको बता दें ब्रिटेन की सांसद जो. कॉक्स ने एक बार अकेलेपन से जुड़ी समस्या पर रिसर्च साझा की थी। इसी रिसर्च के बाद अकेलेपन मामलों का मंत्रालय बनाने की प्रेरणा मिली। कॉक्स की 2016 में यूके ब्रेक्जिट रेफरेंडम कैम्पेन के दौरान हत्या कर दी गई थी। ट्रेसी के लोनलीनेस मिनिस्ट्री संभालने के बाद से अलग-अलग देशों के मंत्री और प्रतिनिधि इस खास मंत्रालय के कामकाज को समझने और सीखने ब्रिटेन आ रहे हैं। इनमें नॉर्वे, डेनमार्क, कनाडा, यूएई, स्वीडन, आईसलैंड, न्यूजीलैंड, जापान और जर्मनी शामिल हैं।

© 2018. ALL RIGHTS RESERVED Just2minute Media pvt ltd