शेयर बाजार : सेंसेक्स 1000 अंक टूटा, इन चार वजहों के कारण डूब गए चार लाख करोड़

Breaking news

शेयर बाजार : सेंसेक्स 1000 अंक टूटा, इन चार वजहों के कारण डूब गए चार लाख करोड़

Author J2M Business    New Delhi 143

मुंबई। ग्लोबल मार्केट में बड़ी गिरावट का असर गुरुवार को घरेलू शेयर बाजार में भी देखने को मिला। सेंसेक्स 34,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से लुढ़क कर 33723.53 पर आ गया। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 10.30 बजे 1037.36 अंकों की गिरावट के साथ 33,723.53 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 321.5 अंकों की गिरावट के साथ 10,150 पर कारोबार करते देखे गए। बाजार में चौतरफा बिकवाली देखने को मिल रही है। 

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 697.07 अंकों की गिरावट के साथ 34,063.82 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 290.3 अंकों की कमजोरी के साथ 10,169.80 पर खुला। वहीं भारतीय मुद्रा रुपये में फिर कमजोरी दर्ज की गई। गुरुवार सुबह डॉलर के मुकाबले रुपया 74.46 पर रहा। 

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी बिकवाली दिख रही है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 3.3 फीसदी गिरा है, जबकि निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 3.3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स करीब 3 फीसदी लुढ़का है।

सेंसेक्स पर 30 में से 29 शेयरों में गिरावट है। सिर्फ ओएनजीसी में 1.58 फीसदी की बढ़त नजर आ रही है। इंफोसिस, एसबीआई, मारुति, एचयूएल, भारती एयरटेल, एचडीएफसी, TCS, RIL, कोटक बैंक, ICICI बैंक, HDFC बैंक, आईटीसी गिरा है।

चौतरफा बिकवाली की वजह से एनएसई पर सेक्टोरल इंडेक्स में शामिल सभी 11 इंडेक्स लाल निशान में है। बैंक, ऑटो, रियल्टी, मेटल, फार्मा समेत सभी इंडेक्स में 2 फीसदी से ज्यादा की गिरावट है।

5 मिनट में निवेशकों के 4 लाख करोड़ डूबे
शेयर बाजार में भारी गिरावट से 5 मिनट में निवेशकों के 4 लाख करोड़ रुपए डूब गए। बुधवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,38,39,750.40 करोड़ रुपए था। बाजार के खुलते ही बीएसई का मार्केट कैप 1,34.90 लाख करोड़ रुपए हो गया।

रुपया अब तक सबसे निचले स्तर पर
गुरुवार को रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर लुढ़क गया। डॉलर के मुकाबले रुपया आज 10 पैसे की कमजोरी के साथ 74.30 के स्तर पर खुला था। खुलते ही रुपए में कमजोरी बढ़ी और रुपया 24 पैसे गिरकर 74.46 प्रति डॉलर के स्तर पर लुढ़क गया, जो रुपया का अब तक लो लेवल है। वहीं बुधवार को रुपया 20 पैसे मजबूत होकर 74.20 के स्तर पर बंद हुआ था।

बाजार में गिरावट की ये हैं चार बड़ी वजह
1. अमेरिकी बाजारों पर ब्याज दरों में बढ़त का दबाव है। 10 साल का बॉन्ड यील्ड्स 7 साल के हाई पर पहुंच गया है। यूएस ट्रेजरी यील्ड्स में बढ़ोतरी से निवेशक रिस्की एसेट्स से दूर हो रहे हैं। जिसकी वजह से बुधवार को डाओ जोंस 832 अंक टूटकर बंद हुआ।  वहीं नैस्डैक 316 अंक यानि 4.1 फीसदी गिरकर 7,422 के स्तर पर बंद हुआ है। एसएंडपी 500 इंडेक्स 95 अंक यानि 3.3 फीसदी की कमजोरी के साथ 2,785.7 के स्तर पर बंद हुआ है।

2. गुरुवार को रुपया डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया है। सुबह के कारोबार में ही रुपया करीब 27 पैसे कमजोर होकर अबतक के सबसे निचले स्तर 74.47 प्रति डॉलर पर आ गया।

3. गुरुवार को एशियाई बाजारों में भी तेज गिरावट देखने को मिल रही है। जापान का बाजार निक्केई 915 अंक यानी 3.89 फीसदी गिरकर 22,591 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। हैंग सेंग 990 अंक यानी 3.75 फीसदी की कमजोरी के साथ 25,220 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं, सिंगापुर का एसजीएक्स निफ्टी 267 अंक यानी 2.55 फीसदी की गिरावट के साथ 10,213 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। 

4. बुधवार को अमेरिकी बाजारों में बड़ी गिरावट दर्ज की गई। एसएंडपी 500 इंडेक्स और डाओ जोंस इंडेक्स में 8 फरवरी 2018 के बाद सबसे बड़ी गिरावट आई। बाजारों पर ब्याज दरों में तेज उछाल का दबाव है। 10 साल की बॉन्ड यील्ड ने 7 साल की नई ऊंचाई छुई है। यूएस ट्रेजरी यील्ड्स में बढ़ोतरी से निवेशक रिस्की एसेट्स से दूर हो रहे हैं। टेक शेयरों की जोरदार पिटाई से अमेरिकी बाजारों में तेज गिरावट देखने को मिली है। टेक्नोलॉजी सेक्टर के लिए 7 साल का सबसे खराब दिन रहा। बुधवार के कारोबार में डाओ जोंस  832 अंक यानी 3.15 फीसदी गिरकर 25,599 के स्तर पर बंद हुआ। यह डाओ जोंस में 8 महीने की सबसे बड़ी गिरावट है। नैस्डैक 316 अंक यानि 4.1 फीसदी गिरकर 7,422 के स्तर पर बंद हुआ है। एसएंडपी 500 इंडेक्स 95 अंक यानि 3.3 फीसदी की कमजोरी के साथ 2,785.7 के स्तर पर बंद हुआ है।

© 2018. ALL RIGHTS RESERVED Just2minute Media pvt ltd